SDM Full Form In Hindi, एसडीएम का फुल फॉर्म क्या है

एसडीएम का फुल फॉर्म क्या है आपने इस शब्द को कई बार सुना होगा लेकिन आपको नहीं है पता की इसका फुल फॉर्म क्या होता है तो आज की इस पोस्ट में हम बात करने वाले है SDM Full Form In Hindi क्या होता है.

आपको पता ही होगा कि हमारे देश में जॉब मिलना कितना कठिन हो चुका है ऐसे में एसडीएम ऑफिसर बनना तो बहुत ही मुश्किल काम हो चुका है लेकिन फिर भी हमारे देश में लाखों लोग SDM ऑफिसर बनने के लिए मेहनत करते हैं.

लेकिन दुख की बात ये है की उन में  से अधिकतर लोग फेल हो जाते हैं इसके कई कारण हो सकते हैं एक तो जो हमें नजर में आता है कि एसडीएम से जुड़ी हुई जानकारी का अभाव होना.

आपके पास SDM से जुड़ी हुई कोई भी जानकारी नहीं है और आप एसडीएम से जुड़ी हुई सारी जानकारियां हासिल करना चाहते हैं तो फिर आप एक सही पोस्ट पर आए हैं.

आज की इस पोस्ट में एसडीएम क्या है एसडीएम का क्या कार्य होता है एसडीएम कैसे बनते हैं ऐसे कई सवाल जो आपके मन में होंगे उनके जवाब देने का इस पोस्ट में हम पूरा प्रयास करने वाले हैं.

तो चलिए सबसे पहले हम जान लेते हैं एसडीएम का फुल फॉर्म क्या होता है उसके बाद हम एसडीएम से जुड़ी हुई अन्य जानकारियों के बारे में बात करेंगे.

आपको यह भी पढ़ना चाहिए

  1. डीपीओ का फुल फॉर्म क्या है
  2. केपीओ का फुल फॉर्म क्या है
  3. बीपीओ का फुल फॉर्म क्या है

एसडीएम का फुल फॉर्म क्या है

आपको अच्छे से एसडीएम का फुल फॉर्म समझ में आए इसके लिए हम आपके साथ SDM Full Form In Hindi और SDM Full Form In English दोनो डिटेल के साथ बताने वाले हैं.

SDM Full Form In Hindi

SDM Full Form In English: Sub Divisional Magistrate

S – Sub

D – Divisional

M – Magistrate

SDM Full Form In Hindi: उप प्रभागीय न्यायाधीश

S – Sub (उप)

D – Divisional (प्रभागीय)

M – Magistrate (न्यायाधीश)

एसडीएम का पूरा नाम हिंदी में क्या है

जैसा कि आपको हमने बताया SDM Full Form In Hindi की SDM का हिंदी में फुल फॉर्म होता है उप प्रभागीय न्यायाधीश आप इसे हिंदी में डिविजनल मजिस्ट्रेट कह सकते हैं.

आपको हम यह भी बता दें कि एसडीएम को हिंदी में अलग-अलग कई नामों से जाना जाता है जैसे कि एक विभागीय एरिया का न्यायाधीश इसके अलावा आप इसे जिला मैजिस्ट्रेट बुला सकते हैं.

एसडीएम क्या है

भारत इतना विशाल देश है कि इसमें कई राज्य हैं उन राज्यों में बहुत से जिले हैं और जिलों के अंदर काफी मात्रा में तहसील होती हैं भारत देश का संविधान इस तरह से बनाया गया है कि देश को चलाने के लिए केंद्र सरकार है.

किसी राज्य को चलाने के लिए राज्य सरकार होती है और वही एक राज्य के 1 जिले में जिले के सारे सरकारी कामो को देखने के लिए मजिस्ट्रेट ऑफिस का गठन किया गया है.

अब हमारा जो सवाल है कि एसडीएम क्या है तो आपको हम बता दें एसडीएम किसी जिले के उपखंड का एक मुख्य अधिकारी होता है जिसके अंतर्गत जिले और तहसील के प्रशासनिक कार्यों को देखरेख की जिम्मेदारी होती है.

एसडीएम ऑफिसर के क्या कार्य होते हैं

राज्य सरकार के इस मुख्य अधिकारी का क्या काम होता है यह सवाल आपके मन में है तो चलिए हम बता देते हैं एसडीएम का काम क्या होता है.

  • अपने जिले और तहसील के सभी भूमिगत कार्य और संपूर्ण भूमि का लेखा-जोखा अपने पास रखने का
  • जिले उपखंड के सभी तहसीलदारों पर प्रत्यक्ष नियंत्रण रखना
  • अपने जिले के सभी तहरा के व्यापार का देख रेख करना
  • जब इलेक्शन हो तो जिले के सभी चुनाव के काम को देखना
  • एक एसडीएम के अंतर्गत वाहनों और विवाह का पंजीकरण का कार्य भी आता है
  • हथियार लाइसेंस, राजस्व कामकाज और एससी-एसटी, ओबीसी जैसे प्रमाण पत्र जारी करना एक एसडीएम के अंतर्गत आता है

एक जिले में कितने एसडीएम होते हैं

यह सवाल काफी लोगों के मन में होगा कि एक जिले में कितने एसडीएम ऑफिसर होते हैं तो आपको हम बता दे की 1 जिले में सब डिविजनल मजिस्ट्रेट और सब डिवीजन मजिस्ट्रेट की संख्या उस जिले के विस्तार पर निर्भर होती है लेकिन एक जिले के अंदर डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट सिर्फ एक ही होता है.

एसडीएम की सैलरी और सरकार की ओर से मिलने वाली सुविधाएं

देश के किसी भी राज्य में एसडीएम का पद सरकार में उच्च स्तरीय पदों में से एक होता है हम बात करें एक एसडीएम की तनख्वाह तो एसडीएम ऑफिसर को 50 हजार से अधिक की तनख्वाह मिलती है.

जैसा कि आपको हमने बताया कि किसी भी राज्य में एक एसडीएम का पद सरकार में उच्च स्तरीय होता है इसी वजह से एक एसडीएम ऑफिसर को आदर सम्मान भी बहुत ही मिलता है.

एसडीएम को आदर सम्मान के साथ और भी बहुत सी सरकारी सुविधाएं मिलती है जिसके बारे में हमने आपको नीचे बताया है.

  • सरकार की ओर से एसडीएम ऑफिसर को सरकारी घर रहने को मिलता है
  • सरकारी घर के साथ एसडीएम की सुरक्षा के लिए सुरक्षा गार्ड मिलता है
  • SDM ऑफिसर को यदि राज्य में सरकारी काम के लिए यात्रा करना हो तो उच्च श्रेणी का आवास की व्यवस्था की जाती है
  • सरकार की ओर से एसडीएम ऑफिसर को सरकारी वाहन और इसके साथ ड्राइवर मिलता है

SDM ऑफिसर कैसे बनते हैं

राज्य के प्रशासनिक सेवाओं में उच्च स्तर का पद होता है एसडीएम का जिसकी समाज में एक अलग पहचान होती है आप SDM ऑफिसर बनने के बारे में सोच रहे हैं तो SDM ऑफिसर बनने के लिए 2 तरीके होते हैं.

चलिए हम आपको बता देते हैं कि एसडीएम पोस्ट पाने के दो तरीके कौन से होते हैं

  1. Union Public Service Commission (UPSC Exam)
  2. State PSC Exam

1. सब डिविजनल मजिस्ट्रेट बनने का पहला तरीका है यूपीएससी की परीक्षा को पास करना जिसके लिए सबसे पहले आपको अपने ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करनी होगी आप किसी भी सब्जेक्ट से ग्रेजुएट कर सकते हैं.

यूपीएससी की परीक्षा पास करने के बाद एसडीएम की पोस्ट मिलती है कुछ सालों के बाद आपको प्रमोशन मिलता है तो आप डीएम की पोस्ट पर पहुंच सकते हैं.

2. मैजिस्ट्रेट बनने के लिए दूसरा तरीका होता है State PSC की परीक्षा से होकर जाना इस परीक्षा से पहले आपको अपने ग्रेजुएशन को पूरा करना होगा उसके बाद State PSC की एग्जाम में टॉप पर आते हैं तो ट्रेनिंग के बाद आप सीधा एसडीएम ऑफिसर बन सकते हैं.

एसडीएम फुल फॉर्म: निष्कर्ष

एसडीएम का फुल फॉर्म क्या होता है इसके बारे में आपको इस पोस्ट में जानकारी मिली होगी इसके साथ ही आपको एसडीएम क्या होता है इसके बारे में भी डिटेल के साथ पता चला होगा.

आज की इस पोस्ट का मुख्य तौर पर टॉपिक था SDM Full Form In Hindi क्या होता है जिसके बारे में हमने डिटेल के साथ बताने का प्रयास किया है फिर भी आपको ऐसा लगता है कि इस पोस्ट में कोई जानकारी छूट गई है तो इसके बारे में आप हमें बता सकते हैं.

अब आखिर में आपसे एक ही रिक्वेस्ट करना चाहूंगा आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो तो जरूर इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here