APMC Full Form In Hindi, एपीएमसी का फुल फॉर्म क्या है

आप जानते हैं एपीएमसी का फुल फॉर्म क्या है आपको पता है एपीएमसी क्या है क्या आपने कभी यह सोचा है कि एपीएमसी शब्द का सीधा संबंध भारतीय किसानों से कैसे हैं यदि आपके पास एपीएमसी रिलेटेड कोई भी जानकारी नहीं है तो कोई बात नहीं क्योंकि आज की इस पोस्ट में हम एपीएमसी शब्द से रिलेटेड सारी जानकारियां आपके साथ शेयर करने वाले हैं.

मेरा यह मानना है कि बहुत से लोग यह जानते होंगे कि APMC Full Form In Hindi क्या होता है लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि बहुत से लोगों को APMC Kya Hai इसके बारे में पता नहीं होता है यदि आपके पास भी एपीएमसी क्या है इस संबंध में जानकारी नहीं है तो फिर आपको हमारी यह पोस्ट पूरी पढ़नी चाहिए.

आज की इस पोस्ट में हमने APMC रिलेटेड सारी जानकारी आपके साथ शेयर करने का प्रयास किया है उम्मीद करता हूं कि आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ लेंगे उसके बाद आपके मन में एपीएमसी से रिलेटेड कोई सवाल नहीं होगा.

आपको हम एपीएमसी क्या है इस पर जानकारी दें उससे पहले आपको हम बताना चाहेंगे कि एपीएमसी का फुल फॉर्म क्या है तो चलिए हम सबसे पहले आपको APMC Full Form In English और उसके बाद APMC Full Form In Hindi पर बात कर लेते हैं.

आपको यह भी पढ़ना चाइये

  1. एनपीआर का फुल फॉर्म क्या है
  2. डीपी का फुल फॉर्म क्या है
  3. यूके का फुल फॉर्म क्या है

एपीएमसी का फुल फॉर्म क्या है

APMC Full Form In Hindi

APMC Full Form In English: Agriculture Produce Marketing Committee

A – Agriculture

P – Produce

M – Marketing

C – Committee

APMC Full Form In Hindi: कृषि उपज विपणन समिति

A – Agriculture (कृषि)

P – Produce (उपज)

M – Marketing (विपणन)

C – Committee (समिति)

एपीएमसी का पूरा नाम हिंदी में क्या है

अब आपको पता चल ही चुका होगा कि एपीएमसी का फुल फॉर्म क्या है तो चलिए अब हम बात कर लेते हैं एपीएमसी शब्द का हिंदी में पूरा नाम क्या होता है जैसा कि हमने आपको APMC Full Form In Hindi में भी बताया है जो इस का हिंदी में फुल फॉर्म होता है वही उसका पूरा नाम भी है.

एपीएमसी का हिंदी में पूरा नाम कृषि उपज विपणन समिति है जो इसका हिंदी में फुल फॉर्म भी होता है अब हम बात करने वाले हैं कृषि उपज विपणन समिति क्या है यानि की APMC Kya Hai.

एपीएमसी क्या है

apmc kya hai

हमारे देश को आजादी मिलने के बाद से किसानों के लिए सबसे बड़ी समस्या जो रही है वह है उनकी उपज का सही दाम ना मिल पाना ऐसे में समय-समय पर देश की सरकारों ने भी इसके लिए काफी उपाय किए हैं ताकि देश के किसानों को अपनी उपज का सही मूल्य मिल सके इसी कोशिश में 1970 के दशक में एपीएमसी बनाया गया है.

एपीएमसी बनाने के बाद देश के किसानों को बाजार में होने वाली अनिश्चितता से उसे बचाना था आपको पता ही होगा कि हमारे देश की बाजारों में अनिश्चितता का दौर समय-समय पर आता रहता है और जब भी अनिश्चितता का दौर बाजार में आता है तो उसका सबसे बड़ा शिकार हमारे देश के किसान होते हैं.

अब ऐसी स्थिति में एपीएमसी बनाने के बाद किसानों को इस अनिश्चितता वाले बाजार से बचाना था ताकि किसानों को बाजार में अपनी उपज का सही दाम मिल सके और सरकार के द्वारा लाए गए इस कानून से किसानों को शुरुआती दौर में फायदा भी हुआ था.

लेकिन जैसे-जैसे समय आगे बढ़ता गया इस कानून से किसानों का फायदा भी होना बंद हो गया क्योंकि समय की मांग के अनुसार इस कानून में बदलाव नहीं किए गए हालांकि एपीएमसी एक्ट राज्य सरकारों में पहले से थे लेकिन केंद्रीय स्तर पर लाए गए इस कानून से उसका मकसद पूरा नहीं हो पाया है.

एपीएमसी का मकसद क्या है

आपको पता ही होगा कि हमारे देश के ज्यादातर किसानों की आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी नहीं है इसी को ध्यान में रखते हुए जब भारत सरकार ने एपीएमसी कानून लाया था तब इस कानून का मकसद था कि देश के किसानों को बाजार की अनिश्चितता से बचाना और उनकी उपज का सही दाम उन्हें मिले इसकी व्यवस्था करना.

हालांकि दुर्भाग्य की बात है कि इस कानून में समय-समय पर बदलाव की जरूरत थी लेकिन वह बदलाव ना होने की वजह से इस कानून का मकसद पूरा नहीं हो पाया है हालाकी भारत सरकार इस कानून में बदलाव करके किसानों की हालत में सुधार करने का प्रयास कर रही है.

इस कानून का मकसद था कि कृषि बाजारों में व्यवस्था लाना और बिचौलियों के हाथों से किसानों का शोषण रोकना हालांकि इस कानून से शुरुआती दौर में काफी किसानों को फायदा हुआ था लेकिन एपीएमसी व्यवस्था समय और जरूरत के हिसाब से विकसित नहीं हो पाई है.

एपीएमसी कानून से होने वाले फायदे
  1. किसानों की उपज के संबंधित खरीद और वितरण गतिविधियों को रोकने के लिए कमीशन एजेंटों और व्यापारियों को ऑथराइज करने की जिम्मेदारी बाजार समिति की होती है.

2. इस कानून के मुताबिक कृषि बाजार में व्यापारियों को किसी भी गतिविधि को करने के लिए लाइसेंस लेना पड़ेगा.

3. कृषि बाजार समितियों द्वारा प्रबंधित बाजारों का गठन राज्य सरकारों द्वारा किया जाता है और मार्केट कमेटी में 10 सदस्य होते हैं.

एपीएमसी फुल फॉर्म: निष्कर्ष

आज की इस पोस्ट में हमने बात की है एपीएमसी का फुल फॉर्म क्या है इसके साथ ही हमने आपके साथ एपीएमसी क्या है इस पर भी विस्तार से बताने का प्रयास किया है आपने इस पोस्ट को पूरा पढ़ा होगा तो आपको पता चल ही चुका होगा एपीएमसी अधिनियम क्या है.

आपने इस पोस्ट को पूरा पढ़ा है लेकिन आपको लगता है कि इस पोस्ट में कुछ जानकारियां अधूरी है तो फिर आपको जरूर हमें कमेंट बॉक्स में बताना चाहिए ताकि हम एपीएमसी रिलेटेड और भी जानकारियां आपके साथ साझा कर सकें

अब इस पोस्ट के आखिरी हिस्से में आपको सिर्फ यही कहना चाहूंगा कि आज की हमारी जो पोस्ट थी APMC Full Form In Hindi यह पोस्ट आपको कैसी लगी इसके बारे में आप अपने विचार जरूर कमेंट बॉक्स में शेयर करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here